Try, improve, learn & sharE

Instant rice or Magical rice

Instant rice or Magical rice

कोमल शाऊल(Komal Saul), असम में पायी जाने वाले चावल की एक क्षेत्रीय  प्रजाति है, जो कि पारंपरिक चावल के उत्कर्ष और टिकाऊ विकल्प के रूप में उभर रहा है जब वर्तमान में ऊर्जा संरक्षण हर जगह प्राथमिकता बन रहा है।
अन्य प्रकार के चावलों के ठीक उल्टा, जिन्हें उबाल कर पकाया जाता है, कोमल चावल इन सभी परेशानी से दूर होता है खैर, यह हैरान करने वाला लगता है, लेकिन कोमल चावल को किसी भी प्रकार से पकाने की आवश्यकता नहीं होती है।
आपको बस यह करना है कि उसे कुछ देर पानी में भिगो दें और यह कुछ ही मिनटों में इस्तेमाल होने के लिए तैयार हो जाता है।
कोमल शाऊल को बोरा शाऊल(Bora Saul) द्वारा प्रसंस्कृत किया जाता है, जो माजूली में बड़े पैमाने पर उगाया जाने वाला चिप चिपा चावल है (माजुली-असम में ब्रह्मपुत्र नदी के सदाबहार रेत के किनारे स्थित दुनिया का सबसे बड़ा डेल्टाइक द्वीप है)


बोरा शाऊल से कोमल शाऊल निम्न प्रक्रिया से प्राप्त होता है जो २४ घंटे के भीतर संपन्न होती है-
-चावल को रातभर पानी में फुलाना
-सुबह उबालना और फिर
-धुप में सुखाना

इसे खाने लायक बनाने के लिए ३० मिनट साधारण पानी में अथवा १५ मिनट गुनगुने पानी में रखना होता है

इसका प्रयोग अक्सर असम में  सामाजिक रूप से मनाया जाने वाले त्योहारों में होता है जब इसे केला पाउडर और गुड़ या आलू मैश और अचार के साथ मिश्रित कर त्यौहारों के दौरान परोसा जाता है।
Instant rice or Magical rice Instant rice or Magical rice Reviewed by ravi kumar on January 02, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.